एक परिवार की 6 वैज्ञानिक बेटियों ने पिता का बढ़ाया मान, 4 विदेश में कर रहीं देश का नाम रोशन

आजकल के समय में बेटियां बेटों से पीछे नहीं है। हर क्षेत्र में बेटियाँ अपने घर वालो के साथ-साथ देश का नाम भी रोशन कर रही हैं। भारत में ज्यादातर परिवारों में बेटियो से ज्यादा मान बेटों पर दिया जाता है। लेकिन आज हम आपको हरियाणा के एक शिक्षक की बेटियों की सफलता के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।

अगर आप उनके बारे में जानेंगे तो आप भी ऐसी ही बेटी की चाहत होने लगेगी। आपको बता दें कि सोनीपत के गांव भदाना के शिक्षक की 6 बेटियों अपने पिता का नाम देश भर में रोशन कर रही हैं। इन बेटियों ने यह साबित कर दिखाया है कि यह बेटों से किसी भी मामले में पीछे नहीं हैं।

6 बेटियों में से चार बेटियों विदेश में रहकर विभिन्न महत्वपूर्ण क्षेत्रों में शोध कर रहे हैं। एक बेटी के कैंसर पर शोध को स्वीकृति मिल चुकी है,वहाँ कुछ बेटियों देश में ही रह कर कुछ विश्वविद्यालयों में शोध प्रोफेसर है और शोध कार्य कर रहे हैं। शिक्षक को अपनी सभी छह बेटियों में दुर्गा स्वरूप नजर आता है। बेटियों की सफलता से शिक्षक बेहद खुश हैं। उन्होंने कहा कि हमारे छोरियां छोरों से बहुत बढ़कर हैं।

आपको बता दें कि भदाना के जगदेव दहिया प्राथमिक विद्यालय में मुख्य अध्यापक थे। उनके 6 बेटे और एक बेटा हैं। लोगों की अक्सर ऐसी धारणा बनी रहती है कि वह बेटियों को बोझ समझते हैं, जिसकी वजह से लोग बेटियों को पढ़ाई-लिखाई नहीं करवाते हैं बल्कि घर के कामकाज में लगा देते हैं लेकिन शिक्षक ने अपनी बेटियों की पढ़ाई से किसी भी प्रकार का समझौता नहीं किया।

उन्होंने अपने बेटों की प्राइमरी शिक्षा गांव के स्कूल से ही करवाई थी। सभी बेटियों ने सोनीपत के टीकाराम गर्ल्स कॉलेज से कक्षा 12 वीं और हिंदू कॉलेज से की की। आगे की शिक्षा प्राप्त करने के लिए उन्होंने अपने बेटों को चंडीगढ़ भेज दिया था।

जगदेव दहिया का ऐसा खुलासा है कि उनके सभी बेटियों अपने-अपने क्षेत्र में मदद करते हैं। डॉ। संगीता ने फिजिक्स से, डॉ मोनिका दहिया ने बायोटे शर्मा से, डॉ नीतू दहिया ने बायोटेअ से, डॉ कल्पना दहिया, डॉ डैनी दहिया और सबसे छोटी डॉ रुचि दहिया मैथ से है। उनकी बड़ी बेटी डॉ। संगीता वर्तमान में शहर के जीवीएम कॉलेज में फिजिक्स प्रोफेसर है। चौथे नंबर की बेटी डॉ कल्पना दहिया पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ में प्रोफेसर के पद पर है।

शिक्षक की एक और बेटी मोनिका दहिया कनाडा में टोरेंटो में वैज्ञानिक हैं, वहीँ डॉ नीतू दहिया यूएस में खाद्य और ड्रग डिपार्टमेंट में वैज्ञानिक हैं। वह फूड अल्टरनेशन से होने वाले कैंसर पर शोध कर रहे हैं।

उनकी एक और बेटी डॉ डैनी दहिया वाशिंगटन में स्वास्थ्य विभाग में वैज्ञानिक हैं। रुचि दहिया यूएसए में यूनियन ऑफ एरीजोना में रिसर्च कर रहे हैं। शिक्षक जगदेव दहिया और उनकी पत्नी अपने बेटों की इस सफलता से काफी खुश है। जगदेव दहिया ने ऐसा कहा है कि उनका बेटा योगेश दहिया नौकरी करने के बाद अपना ऑनलाइन कारोबार चला रहा है। शिक्षक ने कहा कि उनके सभी बेटियां बेटों के समान ही हैं। अगर उन्हें अवसर दिया जाए तो वह भी कुछ करने में सक्षम हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *