सलमान के पिता सलीम ने किया है B ग्रेड फिल्मों में काम…जानिए

बॉलीवुड की प्रसिद्ध लेखक की जोड़ी में शुमार सलीम-जावेद की फ़िल्में एक समय में काफी पसंद की जाती रही है और आज भी उनकी जोड़ी वाली फिल्मे दर्शक बखूबी देखते हैं. दोनों ने अपने समय में ‘दीवार’, ‘जंजीर’, ‘शोले’, ‘शान’, ‘शक्ति’ जैसी तमाम बड़ी और बेहतरीन फ़िल्में लिखी थी. आज भी उनके लेखन की चर्चा इंडस्ट्री में होती है. हालांकि एक समय ऐसा भी आया अजब सलीम और जावेद की जोड़ी टूट गई और दोनों ने कभी साथ काम नहीं किया. आज सलीम खान अपना 85वां जन्मदिन मना रहे हैं. आज ही के दिन साल 1935 में सलीम खान का जन्म इंदौर में हुआ था. आज सलीम खान के जन्मदिन के अवसर पर हम आपको उनसे जुड़े कुछ किस्सों के बारे में बताने जा रहे हैं…

अमिताभ बच्चन की साल 1991 में आई फिल्म अकेला में खलनायक एंथोनी ब्रगेंजा का किरदार कीथ स्टीवेंसन ने निभाया था. निर्देशक रमेश सिप्पी कीथ को नहीं लेना चाहते थे, जबकि सलीम ने स्टोरी लिखने के दौरान कीथ को ही लेना चाहा था.

रमेश का मानना था कि कीथ प्रॉपर हिंदी नहीं बोल पाते हैं और वे इस रोल के लिए फिट नहीं बैठेंगे. हालांकि सलीम के कहने के बाद जब कीथ एक परीक्षा में पास हुए तो उन्हें यह रोल दे दिया गया. लेकिन बाद में फिल्म फ्लॉप हो गई और कीथ भी फ्लॉप ही रहे. इस तरह रमेश सिप्पी के आगे सलीम खान गलत साबित हुए.

साल 1991 में एक फिल्म आई थी ‘पत्थर के फूल’. इसके निर्देशक थे अनंत बलानी और सह निर्माता थे विवेक वासवानी. सलीम ने एक साक्षात्कार में बताया था कि जब वे विवेक से मिले थे तो उनके पास सौ रुपये भी नहीं थे. विवेक के कानों तक जब यह बात पहुंची तो उन्होंने सलीम खान को झूठा कहा और इन बातों से साफ़ इंकार कर दिया.

वासवानी ने बताया कि जीपी सिप्पी के भतीजे विजय उनके दोस्त थे और आगे सलीम पर भड़कते हुए उन्होंने कहा कि ‘जो सलीम सौ रुपये भी जेब में न होने की बात कर रहे हैं, उनको विवेक ने फिल्म की पटकथा लिखने से पहले ही पूरे पैसे दे दिए थे.

फिल्म तूफ़ान में सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने काम किया था. यह फिल्म साल 1989 में रिलीज हुई थी. दर्शकों ने इस फिल्म को पसंद किया था, हालांकि इसके बावजूद अमिताभ और सलीम की यह फिल्म फ्लॉप हो गई थी. इसे लेकर तरह-तरह की बातें हुई. वहीं जब सलीम से पूछा गया तो उन्होंने फिल्म के फ्लॉप होने की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली.

सलीम ने फिल्म तूफ़ान से जुड़े एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि, ”मैंने अमिताभ बच्चन के किरदार को इस फिल्म में गलत तरीके से लिखा. एक तो उन्होंने अमिताभ के किरदार को गुस्सैल दिखाया और दूसरी तरफ उसे मजाकिया भी बना दिया. ऐसा पहले भी दूसरी फिल्मों में हो चुका था लेकिन यहां कुछ ज्यादा ही हो गया.”

जैकी श्रॉफ, राखी गुलजार, अनुपम खेर, किरण कुमार, परेश रावल जैसे मंझे हुए कलाकारों के साथ ही फिल्म फलक में माधवी, सुप्रिया पाठक,विक्रम गोखले, आकाश खुराना ने भी कमा किया था. इतने बड़े कलाकारों से सजे होने के बावजूद साल 1988 में आई यह फिल्म फ्लॉप साबित हुई. निर्देशक शशिलाल के नायर ने इसका कारण सलीम खान को बताया.

निर्देशक शशिकला ने बताया कि शूटिंग के समय सलीम खान हमेशा उनके मामले में दखलंदाजी किया करते थे. उन्होंने बताया था कि सलीम मुझे ऐसा करो, वैसा करो कहा करते थे. ऐसे में उनके मेरे काम में टांग अड़ाने के चलते फिल्म बुरी तरह पिट गई. दूसरी ओर सलीम ने इस मामले में पर कुछ नहीं कहा था

आज बॉलीवुड के सफ़ल स्क्रीन राइटर के रूप में पहचान रखने वाले सलीम खान ने बी-ग्रेड फिल्मों में भी काम किया है. वे बी-ग्रेड फिल्मों में प्रिंस सलीम के नाम से काम करते थे. 1970 तक वे इस तरह की 14 फिल्मों में सपोर्टिंग एक्टर के रूप में काम करते थे. करीब 25 फिल्मों में काम करने के बाद सलीम यह जान चुके थे कि एक्टिंग उनके बस की बात नहीं. बाद में उन्होंने स्क्रीन राइटर के रूप में काम किया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *