मरने के 5 घंटे बाद फिर जिंदा हुआ शख्स, बताए स्वर्ग के गहरे राज़

आए दिन इस दुनिया में कुछ ऐसी हैरतअंगेज घटनाएं घटित हुईं करती हैं जिनके बारे में सुनकर लोगों का उसके ऊपर विश्वास कर पाना असंभव सा लगता है। पर जब लोग उस घटना को अपनी आँखों से देखते हैं तो फिर उन्हें नकार भी नहीं पाते हैं। आज इन दिनों एक ऐसी ही हैरतअंगेज घटना से जुडी खबर सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा वायरल हो रही है। वायरल हो रही इस खबर के मुताबिक ऐसा दावा किया जा रहा है कि मौत के बाद एक इंसान फिर से जीवित होकर लोगों के बीच आ गया है। इस तरह की घटना को अब तक आपने फिल्मों में ही देखा होगा लेकिन आज हम आपको मूल जीवन से जुड़ी इस घटना के बारे में बताने वाले हैं। तो चलिए बताते हैं कि आप इस घटना के बारे में विस्तार से

खबरों के मुताबिक यह घटना अलीगढ़ के अतरौली के अंतर्गत आनेवाले किरथल गांव का बताया जा रहा है ऐसा कहा जा रहा है कि इस गांव में रहने वाले रामकिशोर को किसी प्रकार की गंभीर बीमारी होने की वजह से उसके निधन से कुछ पहले ही हो गया था। उनके निधन हो जाने के बाद उनके परिवार के सदस्य काफी घबरा गए। उनके परिवार में मौजूद हर एक शख्स उनके निधन के शोक में डूबा हुआ था। चारों ओर घर में विलाप करने की आवाज सुनीई दे रही थी। मृत्यु की खबर मिलने के बाद उनके परिवार और रिश्तेदार के सदस्य उनके अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए उनके घर पहुंच गए। सभी सदस्यों के घर पहुंच जाने के बाद जब उनके अंतिम संस्कार की तैयारी की जाने लगी तो वही हुआ कुछ ऐसा जिसे देख हर कोई वहां से भाग जाए।

परिवार वालों के मुताबिक़ ऐसा कहा गया है कि जब परिवार के सभी सदस्यों की अंतिम संस्कार करने के पहले उनकी शव को नवलाने के बाद अर्थी पर रखा तो उसी समय उनके शरीर में अचानक से हलचल होने लगी। अचानक से उनके शरीर में हलचल को देखकर हर कोई हैरान रह गया। किसी को उस वक़्त में कुछ समझ नहीं आ रहा था कि आखिर उस वक़्त हो क्या रहा है। उनके अचानक से जिन्दा हो जाने और उसके बाद उठ कर लोगो के सामने बैठ जाने के बाद मौजूद मौजूद हर एक व्यक्ति भयभीत हो जाए। उठते के साथ ही उन्होंने लोगो से कहा की शायद यमदूत से गलती हो गयी थी जिसकी वजह से वह किसी और के प्राण लेने की वजय उनके ही प्राण लेने चला गया था।

मृत्यु के बाद एक बार फिर से जिंदा होकर धरती पर वापस आने वाले साथ रामकिशोर ने लोगो को बताया कि उन्हें पिछले 5 घंटे में हुई घटनाओं के बारे में तो इतनी कुछ याद नहीं है पर जहां मुझे लेकर गए थे वहां एक बैठक चल रही थी। वहाँ उस बैठक में एक महात्मा मौजूद थे जो की बारी बारी से हर एक व्यक्ति से बातचीत कर रहे थे। जब रामकिशोर की बारी आई तो उस महात्मा ने कहा कि वे अभी तक क्यों ले आये हो अभी तो इनकी जिंदगी जीने का एक आराम है। इसके साथ ही साथ उस महात्मा ने मुझे कई सारे सवाल भी किए। उसके बाद अचानक से धक्का दे दिया गया और जब उन्होंने अपनी आंखे खोली तो पाया कि उनके परिवार के सदस्य उनके आसपास बैठकर उनकी मौत को लेकर विलाप करने में लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *