महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने दिया इस्तीफा, CBI करेगी सौ करोड़ वसूली कांड की जांच

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगे आरोपों की जांच अब सीबीआई करेगी। आज बॉम्बे हाईकोर्ट ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ सीबीआई जांच करने का आदेश दिया है। दरअसल मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के आरोपों पर बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई थी और इस दौरान हाईकोर्ट ने अनिल देशमुख के खिलाफ ये बड़ा फैसला सुनाया है। सीबीआई जांच का आदेश देते हुए हाईकोर्ट ने 15 दिन के भीतर जांच रिपोर्ट सौंपने की बात भी कही है।

परमबीर सिंह ने गृह मंत्री देशमुख के खिलाफ हाईकोर्ट में सौ करोड़ रुपए वसूली से जुड़े मामले की याचिका लगाई थी। इस याचिका पर फैसला सुनाते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा कि परमबीर सिंह के आरोप काफी गंभीर हैं। इस मामले में एफआईआर दर्ज हो गई है। इसकी जांच के लिए पुलिस पर निर्भर नहीं रह सकते हैं। इसकी प्राथमिक और त्रुटिहीन जांच के लिए सीबीआई की आवश्यकता है।

 

अनिल देशमुख ने resFA दिया

हाईकोर्ट का फैसला आने के बाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अनिल देशमुख को गृहमंत्री पद से हटाने की मांग की थी। में उन्होंने कहा कि हफ्ता वसूली का बहुत जल्द सामने आएगा। सीबीआई जांच में ये सच सामने आएगा। इस दौरान अनिल देशमुख को गृह मंत्री पद से इस्तीफा दे देना चाहिए। हालांकि फदनवीस के इस बयान के कुछ देर बाद ही अनिल देशमुख ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

गौरतलब है कि एंटीलिया केस में मुंबई के पुलिस अधिकारी सचिन वाज़े की गिरफ्तारी के बाद मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का ट्रांसफर कर दिया गया था। ट्रांसफर होने के बाद मुंबई के पूर्व कमिश्नर ने मुख्यमंत्री कोटव ठाकरे को पत्र लिखा था। जिसमें उन्होंने लिखा था कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाज़े को 100 करोड़ रुपये वसूली का टारगेट दिया था।] हालांकि देशमुख व उनकी पार्टी प्रमुख शरद पवार ने परमबीर सिंह के आरोपों को गलत करार दिया था और कई तरह के सवाल परमबीर सिंह पर उठाए गए थे।

जिसके बाद अनिल देशमुख के खिलाफ परमबीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट जाने को कहा था। परमबीर सिंह ने हाईकोर्ट में गृह मंत्री देशमुख के खिलाफ अर्जी दी थी। उसी पर कोर्ट ने फैसला सुनाया है। वहीं फैसला आते ही अनिल देशमुख ने रिजफा दे दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *