मंदिर की दानपेटी से पैसा चुरा रहे थे चोर, भगवान ने हाथोंहाथ दी ऐसी सजा कि ज़िंदगीभर याद रखेंगे

कोरोनाकाल में चोरी चकारी के मामले काफी बढ़ गए हैं। अब तो आलम ये है कि चोर भगवान को भी नहीं छोड़ रहे हैं। उनके मंदिर में भी चोरियां हो रही है। हालांकि छत्तीसगढ़ के कोरबा में जब दो चोरों ने मंदिर की दानपेटी से पैसे चुराने की कोशिश की तो भगवान ने उन्हें तुरंत सजा दे दी। इसके बाद आसपास के लोग कहने लगे कि जैसी करनी वैसी भरनी। आईए इस पूरे मामले को विस्तार से जानते हैं।

दरअसल यह पूरा मामला पावर हाउस रोड कोरबा स्थित नवनिर्मित शनि मंदिर का है। यहां सोमवार सुबह सुबह दो चोर अंदर चोरी की नियत से दाखिल हुए। वे भगवान की दान पेटी से पैसा चुराना चाहते थे। इसके लिए पहले उन्होंने दानपेटी का ताला तोड़ दिया। इसके बाद दानपेटी में हाथ डाल पैसे निकाले की कोशिश करने लगे। हालांकि इस दौरान उनका हाथ दानपेटी में ही फंस गया।

इस बीच मदिर के पुजारी की फैमिली जाग गई। उन्होंने चोर को मंदिर के अंदर देख लिया। पुजारी ने शोर मचा आसपास के लोगों को बुला लिया। फिर दानपेटी को तोड़कर चोर का हाथ बाहर निकाला गया। उधर पुलिस को भी सूचित कर दिया गया जिन्होंने घटना स्थल पर आकार दोनों चोरों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस की पूछताछ में दोनों चोरों ने यह बात स्वीकार कर ली कि वे मंदिर में चोरी की नियत से ही घुसे थे। दोनों आरोपी बालको निवासी हैं। इसके पहले भी वे कई जगह चोरी कर चुके हैं। फिलहाल पुलिस पूछताछ और अन्य लोगों के बयानों के आधार पर उनके खिलाफ केस बना रही है।

जानकारी के मुताबिक दोनों चोरों ने मंदिर की दानपेटी से पैसे निकालने के लिए मंदिर का त्रिशूल भी तोड़ दिया था। उन्होंने त्रिशूल के इस टुकड़े को झाड़ू से जोड़ दानपेटी से पैसे निकालने का प्रयास किया था। बस इसी चक्कर में एक चोर का हाथ दानपेटी में जा फंसा था। दोनों ने हाथ बाहर निकालने की कई कोशिश की थी लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

अब यह पूरा मामला आसपास के इलाके में चर्चा का विषय बना हुआ है। लोगों का यही कहना है कि भगवान के घर में जो चोरी करेगा उसे ऐसी सजा तो मिलेगी ही। कुछ का यह भी बोलना है कि चोरों को कम से कम भगवान का घर तो छोड़ देना चाहिए।

वैसे इस पूरे मामले पर आपकी क्या राय है? क्या आप ने कभी पहले ऐसा कोई मामला देखा है जिसमें चोरों को हाथोंहाथ उनके किए की सजा मिली हो?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *