गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाझे से हर महीने 100 करोड़ रुपए उगाही करने को कहा था-परमबीर सिंह

मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख को लेकर किए गए खुलासे के बाद से महाराष्ट्र की राजनीति में उठापटक चली हुई है और एनसीपी नेता शरद पवार ने इस मामले में अपनी पार्टी के नेता अनिल देशमुख का साथ दिया है। वहीं दूसरी ओर विपक्षी पार्टियां लगातार अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग कर रही हैं। इसी बीच अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है और मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। परमबीर सिंह ने कोर्ट से मांग की है कि उनके द्वारा जो आरोप पत्र में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगाए गए हैं। उनकी सीबाीआई जांच करवाई जाए।

गौरतलब है कि हाल ही में मुंबई के पुलिस आयुक्त के पद से परमबीर सिंह को हटा दिया गया था और इनका ट्रांसफर होमगार्ड विभाग में किया गया था। जिसके बाद इन्होंने मुकेश अंबानी के घर के बाहर से विस्फोट से लदी कार मिलने के मामले में गिरफ्तार किए गए पुलिस अधिकारी सचिन वाझे को लेकर एक पत्र लिखा था। इसमें इन्होंने अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाए थे। ये पत्र इन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखा था। जिसमें इन्होंने कहा था कि गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाझे से हर महीने 100 करोड़ रुपए जमा करने को कहा था। गृह मंत्री अनिल देशमुख ने वसूली करके पैसे जमा करने के लिए सचिन वाझे पर दवाब बनाया था।

हालांकि अनिल देशमुख ने पत्र के जरिए लगाए गए इन आरोपों को गलत करार दिया था और कहा था कि परमबीर सिंह का ट्रांसफर किया गया है। इसलिए वो ये सब कर रहे हैं। साथ में ही शरद पावर ने भी ये बात कही थी कि आखिर क्यों ट्रांसफर करने के बाद ही परमबीर सिंह ने अपनी चुप्पी तोड़ी। उससे पहले इन्होंने कुछ क्यों नहीं कहा।

वहीं अब परमबीर सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। इस याचिका में सभी आरोपों की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। साथ ही उन्होंने अनिल देशमुख के घर के बाहर की सीसीटीवी फुटेज को जब्त कर उसकी जांच कराए जाने की भी मांग की है। ताकि सच्चाई सामने आ सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *