ऑनलाइन क्लास के बाद मोबाईल पर अश्लील Video देखता था 12 साल का लड़का, कर दिया बहन का रेप

कोरोना वायरस के चलते बच्चे ऑनलाइन क्लास लेने को मजबूर हैं। इस ऑनलाइन क्लास के जहां कई फायदें हैं तो वहीं कुछ नुकसान भी है। पेरेंट्स ऑनलाइन क्लास के लिए अपने बच्चे को स्मार्टफोन दे देते हैं। उन्हें लगता है कि वह इस पर पढ़ाई कर रहा है, लेकिन हर बच्चा ऐसा नहीं होता है। कई बार वह इस मोबाईल का गलत फायदा भी उठाता है।

इंटरनेट एक बड़ी जगह है। इस पर अच्छी और बुरी दोनों ही चीज उपलब्ध रहती है। ऐसे में यदि बच्चा बुरी चीजों को देखने लगे तो ये उसकी मानसिक स्थिति और भविष्य के लिए खतरा पैदा कर सकता है। अब राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के रायसिंह नगर का यह मामला ले लीजिए। यहां 12 साल के बच्चे ने ऑनलाइन क्लास के बाद पॉर्न देखी। इससे उसके दिमाग में इतनी नेगेटिविटी भर गई कि उसने अपनी 6 साल की बहन का ही रेप कर दिया।

माता पिता ने अपने बेटे को ऑनलाइन क्लास के लिए नया मोबाईल लाकर दिया था। ऐसे में बच्चा ऑनलाइन पढ़ाई के बाद उसमें चोरी छिपे पॉर्न देखने लगा। वह अक्सर घर में रहने लगा और दोस्तों के साथ बाहर जाना भी बंद कर दिया। वह किसी से बात भी नहीं करता था और दिनभर मोबाईल देखता रहता था। जब पेरेंट्स उससे कुछ कहते तो उसका जवाब होता कि मैं पढ़ाई कर रहा हूँ। यहां तक कि रात में जब माता पिता सो जाते थे तो वह उठकर चोरी से मोबाईल में अश्लील वीडियो देखता था।

इतनी अधिक पॉर्न देखना का रिजल्ट ये हुआ कि बच्चे के दिमाग में गंदगी भर गई। उसने अपनी ही 6 साल की बहन के साथ बलात्कार कर दिया। घटना के बाद पुलिस ने बच्चे को गिरफ्तार कर बाल सुधार केंद्र भेज दिया। यहां पूछताछ में उसने बताया कि ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान उसके मोबाईल पर एक लिंक आई थी। उसने जब इस लिंक पर क्लिक किया तो पॉर्न साइट खुल गई। बस इसके बाद वह रोज इस साइट पर जाकर पॉर्न देखने लगा।

यह घटना उन सभी पेरेंट्स के लिए चेतावनी है जो अपने बच्चों को मोबाईल फोन देकर बेफिक्र हो जाते हैं। यदि आप अपने बच्चे को स्मार्टफोन दे रहे हैं तो उसकी निगरानी रखिए। ऑनलाइन क्लास के समय उसके पास ही रहिए। उसे सिर्फ पढ़ाई के लिए ही मोबाईल दीजिए। जब वह मोबाईल यूज कर लें तो उसकी हिस्ट्री चेक कीजिए। इससे पता चल जाएगा कि वह मोबाईल में क्या क्या करता है।

अपने मोबाईल में एक अच्छा एंटीवायरस भी रखें। पढ़ाई लिखाई के अलावा बाकी सभी फालतू ऐप्स डिलीट कर दें। कई बार इन ऐप्स के विज्ञापनों में भी अश्लील वेबसाइट की लिंक आ जाती है। बच्चों की ऑनलाइन गतिविधियों पर निगरानी रखने के लिए कुछ ऐप्स भी आती हैं। जैसे आप Covenant Eyes, Kids Place – Parental Control, Abeona – Parental Control & Device Monitor इत्यादि की मदद ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *